इस दिशा में होना चाहिए घर के मंदिर का मुंह

घर में मंदिर, जिसे भारत में मंदिर भी कहा जाता है, एक पवित्र स्थान है जहां हम भगवान की पूजा करते हैं, तो, एक पूजा कक्ष वास्तु सकारात्मक ऊर्जा लाएगा और जगह को शांतिपूर्ण बना देता है घर और मंदिर क्षेत्र में मंदिर की दिशा, जब वास्तु शास्त्र के अनुसार रखी जाती है, तो घर और उसमें रहने वालों के लिए स्वास्थ्य, समृद्धि और खुशी ला सकती है.
घर में मंदिर या मंदिर रखने की सबसे अच्छी दिशा उत्तर-पूर्व दिशा या ईशान कोण है, जिसे वास्तु शास्त्र के अनुसार शुभ माना जाता है. महानगरीय शहरों में दिशा का चयन हमेशा संभव नहीं होता है, जहां जगह की कमी होती है.

ऐसे घरों के लिए आप अपनी आवश्यकता के अनुसार दीवार पर चढ़े हुए मंदिर या छोटे कोने वाले मंदिर पर विचार कर सकते हैं.मंदिर क्षेत्र शांति का क्षेत्र होना चाहिए जो दिव्य ऊर्जा से भरा हो, यह एक ऐसा स्थान है जहाँ व्यक्ति शक्ति प्राप्त करता है. यदि किसी के पास मंदिर के लिए एक पूरा कमरा न दे पा रहे हैं तो वह घर के उत्तर-पूर्व क्षेत्र की ओर पूर्व की दीवार पर एक छोटी वेदी स्थापित कर सकते हैं. वास्तु के अनुसार मंदिर की दिशा का पालन करने से सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. घर के दक्षिण, दक्षिण-पश्चिम या दक्षिण-पूर्व क्षेत्र में मंदिर की दिशा से बचना चाहिए.

पूर्व दिशा में उगते सूर्य और भगवान इंद्र की दिशा है इसलिए पूर्व की ओर मुख करके प्रार्थना करने से सौभाग्य और वृद्धि होती है.
पश्चिम की ओर मुख करके प्रार्थना करने से धन का आगमन होता है.
उत्तर की ओर मुख करने से अवसरों की प्राप्ति और सकारात्मकता घटनाओं का जीवन पर प्रभाव बढ़ता है.
वास्तु के अनुसार मंदिर पूजा कक्ष की दिशा के अनुसार, प्रार्थना करते समय दक्षिण की ओर मुंह करना अच्छा नहीं है तो, मंदिर दक्षिण को छोड़कर घर में किसी भी दिशा के सम्मुख हो सकते हैं.

पूजा कक्ष में भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए
पूजा कक्ष वास्तु के अनुसार देवताओं के मुख को माला और फूलों से नहीं ढकना चाहिए.
हमेशा भगवान की ठोस मूर्ति रखें और मंदिर में खोखली मूर्ति रखने से बचना चाहिए.
वास्तु में पूजा कक्ष में भगवान का मुंह किस दिशा में होना चाहिए इसके लिए इस बात को ध्यान में रखना चाहिए कि भगवान गणेश को लक्ष्मी की बाईं ओर और देवी सरस्वती को देवी लक्ष्मी के दाहिने तरफ रखा जाना चाहिए.

शिवलिंग घर के उत्तरी भाग में रखा जाना चाहिए.
वास्तु के अनुसार मंदिर या पूजा कक्ष में भगवान हनुमान की मूर्ति हमेशा दक्षिण दिशा की ओर होनी अच्छी होती है.
जिन देवताओं की मूर्तियों को उत्तर दिशा में, दक्षिण दिशा की ओर मुख करके रखने की आवश्यकता होती है, वे हैं गणेश, दुर्गा और कुबेर.

सूर्य, ब्रह्मा, विष्णु, महेश को पूर्व दिशा में पश्चिम की ओर मुंह करके रखना अनुकूल होता है.इसलिए, यह जांचना आवश्यक है कि पूजा कक्ष डिजाइन करते समय मंदिर में देवता घर में सही दिशा में हैं या नहीं. एक पिरामिड-संरचित छत जो मंदिर के गोपुर की तरह दिखती है, आपके पूजा कक्ष के लिए एक अच्छी डिजाइन हो सकती है. पिरामिड का आकार सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने के लिए जाना जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: