मुफ्त सुविधा की योजनाओं से कई राज्‍य भारी वित्तीय दबाव में

आमदनी उठन्नी, खर्चा रुपैया .. की कहावत अब कई राज्यों पर पूरी तरह सटीक बैठने लगी है। खासकर तब जबकि राजनीतिक लाभ के लिए मुफ्त गिफ्ट और मुफ्त मे सुविधाएं देने की योजनाएं बढ़ने लगी हैं। इस बात का खुलासा एसबीआई इकोरैप की रिपोर्ट में किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कई राज्य लोन को माफ करने, पेंशन की पुरानी स्कीम व कई अन्य मुफ्त की योजनाएं चलाने की घोषणाएं कर रही हैं जो राज्यों के लिए आर्थिक रूप से व्यावहारिक नहीं है और इससे उनकी आर्थिक स्थिति गड़बड़ हो सकती है। इन राज्यों को सोच-समझकर तार्किक रूप से खर्च करना चाहिए क्योंकि मुफ्त की योजना चलाने के चक्कर में ये राज्य अपनी राजस्व प्राप्ति से अधिक खर्च कर रहे हैं।

इकोरैप की रिपोर्ट में उदाहरण के तौर पर बताया गया है कि तेलंगाना अपनी राजस्व प्राप्ति का 35 फीसद हिस्सा मुफ्त की योजनाओं व लोकलुभावन स्कीम पर खर्च करता है। राजस्थान, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, केरल जैसे राज्य राजस्व प्राप्ति का 5-19 फीसद मुफ्त की योजनाओं पर खर्च करते हैं। छत्तीसगढ़ ने हाल ही में पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करने की घोषणा की है। सिर्फ टैक्स से होने वाले वाली कमाई की बात करें तो ये राज्य टैक्स से होने वाली कमाई का 63 फीसद तक मुफ्त की योजनाओं पर खर्च कर देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: