फेतेहपुर सीकरी लोकसभा क्षेत्र में किसका भाग्य जागेगा:जगह जगह चर्चा का विषय बनी

 

महिलाओं की दम पर फिर से बाजी मार सकती है भाजपा

विष्णु सिकरवार
आगरा। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में फ़तेहपुर सीकरी लोकसभा सीट पर कुल 1718837 मतदाता थे, जिन्होंने बीजेपी प्रत्याशी राजकुमार चाहर को 667147 वोट देकर जिताया था. उधर,आईएनसी उम्मीदवार राज बब्‍बर को 172082 वोट हासिल हो सके थे, और वह 495065 वोटों से हार गए थे।
समूचे देश में 19 अप्रैल से एक जून के बीच कुल सात चरणों में चुनाव होने जा रहा है, और चुनाव परिणाम चार जून को घोषित किए जाएंगे।
हिन्दी बेल्ट की जान’ कहे जाने वाले उत्तर प्रदेश राज्य में कुल 80 लोकसभा सीटें हैं, जिनमें से एक है फ़तेहपुर सीकरी संसदीय सीट, जो अनारक्षित है।
देश में हुए पिछले लोकसभा चुनाव में, यानी लोकसभा चुनाव 2019 में इस सीट पर कुल 1718837 मतदाता थे. उस चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी राजकुमार चाहर को जीत हासिल हुई थी, और उन्हें 667147 वोट हासिल हुए थे। इस चुनाव में राजकुमार चाहर को लोकसभा सीट में मौजूद कुल मतदाताओं में से 38.81 प्रतिशत का समर्थन प्राप्त हुआ था। जबकि इस सीट पर डाले गए वोटों में से 64.24 प्रतिशत उन्हें दिए गए थे। लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान इस सीट पर आईएनसी प्रत्याशी राज बब्‍बर दूसरे स्थान पर रहे थे, जिन्हें 172082 वोट मिले थे। जो संसदीय सीट के कुल मतदाताओं में से 10.01 प्रतिशत का समर्थन था, और उन्हें कुल डाले गए वोटों में से 16.57 प्रतिशत वोट मिले थे। इस सीट पर आम चुनाव 2019 में जीत का अंतर 495065 रहा था।
इससे पहले, फ़तेहपुर सीकरी लोकसभा सीट पर वर्ष 2014 में हुए आम चुनाव के दौरान 1580582 मतदाता दर्ज थे। उस चुनाव में बीजेपी पार्टी के प्रत्याशी बाबूलाल ने कुल 426589 वोट हासिल कर जीत दर्ज की थी। उन्हें लोकसभा क्षेत्र के कुल मतदाताओं में से 26.99 प्रतिशत ने समर्थन दिया था,और उन्हें उस चुनाव में डाले गए वोटों में से 44.06 प्रतिशत वोट मिले थे। उधर, दूसरे स्थान पर रहे थे बसपा पार्टी की उम्मीदवार सीमा उपाध्‍याय, जिन्हें 253483 मतदाताओं का समर्थन हासिल हो सका था। जो लोकसभा सीट के कुल वोटरों का 16.04 प्रतिशत था और कुल वोटों का 26.18 प्रतिशत रहा था। लोकसभा चुनाव 2014 में इस संसदीय सीट पर जीत का अंतर 173106 रहा था।
उससे भी पहले उत्तर प्रदेश राज्य की फ़तेहपुर सीकरी संसदीय सीट पर वर्ष 2009 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान 1345742 मतदाता मौजूद थे, जिनमें से बसपा उम्मीदवार सीमा उपाध्याय ने 209466 वोट पाकर जीत हासिल की थी। सीमा उपाध्याय को लोकसभा क्षेत्र के कुल मतदाताओं में से 15.57 प्रतिशत वोटरों का समर्थन हासिल हुआ था। जबकि चुनाव में डाले गए वोटों में से 30.19 प्रतिशत वोट उन्हें मिले थे। दूसरी तरफ,उस चुनाव में दूसरे स्थान पर आईएनसी पार्टी के उम्मीदवार राज बब्बर रहे थे। जिन्हें 199530 मतदाताओं का साथ मिल सका था। यह लोकसभा सीट के कुल वोटरों का 14.83 प्रतिशत था और कुल वोटों का 28.75 प्रतिशत था। लोकसभा चुनाव 2009 में इस संसदीय सीट पर जीत का अंतर 9936 रहा था। लोकसभा चुनाव 2024 में हुए मतदान के दौरान 1798772 मतदाता है जिनमें से 1028791 मत पड़े हैं। जो कि पहले चुनावों की तुलना में इस चुनाव में करीब चार प्रतिशत कम मत पड़े हैं। इस लोकसभा चुनाव में भाजपा से सांसद राजकुमार चाहर व सपा कांग्रेस से पूर्व फौजी रामनाथ सिकरवार हैं। लोग चौपाल चाय की दुकान एवं जगह-जगह चुनाव की चर्चा बड़ी तेजी से चल रही हैं लोग तरह तरह से कयास लगाकर कोई भाजपा प्रत्याशी सांसद राजकुमार चाहर को जिता रहे है तो कोई सपा कांग्रेस गठबंधन प्रत्याशी पूर्व फौजी रामनाथ सिकरवार को जिता रहे हैं। हालांकि इस लोकसभा सीट पर लगातार दो बार से भाजपा ने ही भारी मतों से जीत हासिल की है। अब सभी प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम मशीनों में बंद है अब देखना होगा कि किसका भाग्य जगेगा। हालांकि विशेषज्ञ कहते हैं कि राजकुमार चाहर के क्षेत्र में न आने के विरोध के बाद भी भाजपा भारी पड़ रही हैं। उनका मानना है कि रामनाथ सिकरवार क्षत्रियों के दम पर चुनाव में टक्कर में आये हैं इस लोकसभा में गठबंधन का कोई इतना बड़ा वोट बैंक नहीं है लेकिन क्षत्रिय समाज की महिलाओं ने भाजपा को मतदान करके भाजपा प्रत्याशी राजकुमार चाहर को फिर से विजयी बनाने का काम किया है महिलाओं का कहना है कि वह किसी प्रत्याशी व पार्टी को नहीं जानती है उन्होंने तो मोदी को कमल के फूल पर वोट दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें