अयोध्या के जगद्गुरु परमहंस आचार्य को ताजमहल में नहीं मिली एंट्री

आगरा के विश्व प्रसिद्ध ताजमहल से एक नया विवाद सामने आया है. यहां अयोध्या के जगद्गुरु परमहंस आचार्य को ताजमहल में एंट्री करने से रोक दिया गयापरमहंस आचार्य अपने तीन शिष्यों के साथ ताजमहल देखने पहुंचे थे लेकिन उन्हें रोक दिया गया.

ब्रह्मा दंड के साथ जाना चाहते थे जगद्गुरु

जगद्गुरु का आरोप है कि भगवा कपड़ों की वजह से सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें ताजमहल परिसर में घुसने से रोक दिया. हालांकि एएसआई अधीक्षण राजकुमार पटेल ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि जगद्गुरु के पास मौजूद लोहे के ब्रह्मा दंड की वजह से उन्हें एंट्री नहीं दी गई थी.

सुरक्षाकर्मियों ने जगदगुरु से ब्रह्मा दंड जमा कर अंदर जाने की अपील की थी. इसके बाद बिना ब्रह्मा दंड के जगदगुरु ने ताजमहल में जाने से कर दिया. इसके बाद महंत ने वहां मौजूद अपने शिष्यों को आशीर्वाद दिया और वापस लौट गए.

‘ताजमहल असल में शिव का मंदिर’

इस बीच परमहंस आचार्य का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि यहां एक खास धर्म के लोगों को महत्व दिया जाता है. इस वीडियो में उन्होंने कहा कि दुनिया को ताजमहल के इतिहास के बारे में गलत बताया गया. ताजमहल असल में भगवान शिव का मंदिर है, जिसे पहले तेजोमहालय के नाम से जाना जाता था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: