चारबाग नत्था तिराहा से दुर्गापुरी तक अस्थायी अतिक्रमण को लेकर जनयाचिका दर्ज

केस. जनहित याचिका यपीआईएल नंबर 199 वर्ष 2022
याचिकाकर्ता. आर सी पाठक एडवोकेट व्यक्तिगत रूप
प्रतिवादी. यूनियन ऑफ इंडिया सेकेरी मिनी ऑफ होम अफेयर्स एंड अन्य काउंसेल फॉर याचिकाकर्ता. रमेश चंद्र पाठक
प्रतिवादी के लिए वकील. ए एस जी आई सी एस सी कुमार आयुष, नमित शर्मा, रत्नेश चंद्र
माननीय देवेंद्र कुमार उपाध्याय माननीय सुभाष विद्यार्थी श्री आर सी पाठक याचिकाकर्ता जो व्यक्तिगत रूप से उपस्थित हुए ने राज्य. प्राधिकारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले स्थायी वकील श्री महेंद्र कुमार मिश्रा के लिए विद्वान वकील को सीखा। रेलवे श्री अखिलेश कुमार श्रीवास्तव एलडीए के विद्वान वकील श्री कुमार आयुष यूपी मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के विद्वान वकील और श्री रजनीश कुमार सिंह नगर निगम के विद्वान वकील हालांकि इस जनहित याचिका याचिका में किए गए कथनों के अवलोकन से याचिकाकर्ता की सटीक और स्पष्ट शिकायत यह समझने योग्य नहीं है हालांकि ऐसा प्रतीत होता है कि चारबाग रेलवे स्टेशन के पास नत्था टी नामक सड़कों के त्रि. खंड से निकलने वाली एक सड़क है। तिराहा जो आलमबाग जाता है और नत्था तिराहा से दुर्गापुरी तक सड़क के दोनों ओर कुछ स्थायी अस्थायी अतिक्रमण हैं। इसके अलावा याचिका में प्रस्तुत किया गया है कि इन स्थायीद अस्थायी अतिक्रमणों के कारण वास्तविक उपयोग के लिए उपलब्ध सड़क की चैड़ाई कम हो जाती है जिससे बहुत सारी समस्याएं होती हैं यह भी कहा गया है कि मेट्रो रेल सड़क के ऊपर चलने के कारण और खाते में भी मेट्रो रेल स्टेशन की सड़कों पर दैनिक पैदल गिरने में वृद्धि हुई है हालांकि अतिक्रमण के कारण पैदल चलने वालों और अन्य यात्रियों को सड़क पार करना भी मुश्किल लगता है जैसा कि हम समझते हैं अतिक्रमण को हटाने में स्थानीय निकाय यानी लखनऊ नगर निगम की प्राथमिकता है। प्रबंधन का संबंध है जिला यातायात पुलिस उचित और पर्याप्त कार्रवाई करने में यातायात को सुचारू बनाने के उपाय इस मामले के पूर्वो दृष्टिकोण मेंए हम चाहते हैं कि जिला मजिस्ट्रेट लखनऊ सभी संबंधित अधिकारियों अर्थात् पुलिस अधीक्षक यातायात लखनऊ नगर आयुक्त लखनऊ लोक निर्माण विभाग के संबंधित अभियंता यदि लोक निर्माण विभाग से संबंधित है की एक बैठक आयोजित करें। विचाराधीन सड़क का रखरखाव उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल निगम के उपयुक्त स्तर के अधिकारी उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के उचित स्तर के अधिकारी और मंडल रेल प्रबंधक उत्तर पूर्व रेलवे लखनऊ और इस याचिका में उठाए गए मुद्दों पर चर्चा करने की उम्मीद है। अधिकारियों के दल द्वारा मौके पर जाकर अतिक्रमण हटाने तथा यातायात को सुचारू रूप से चलाने के लिए उचित कदम उठाए ताकि क्षेत्र के लोगों को श्रलगभग दिन भर लगने वाले जाम से निजात मिल सके। बाध्य कार्य योजना जिस पर तदनुसार कार्य किया जाएगा जिला मजिस्ट्रेट लखनऊ को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया जाता है कि समिति द्वारा तैयार की गई कार्य योजना को समयबद्ध तरीके से लागू किया जाता है विद्वान स्थायी वकील को इस आदेश को जिला मजिस्ट्रेटए लखनऊ को संप्रेषित करना आवश्यक है जो इसे सभी संबंधितों को बताएंगे जैसा कि श्री अखिलेश के ऊपर देखा गया है कुमार श्रीवास्तव यूपीएसआरटीसी के विद्वान स्थायी वकील निगम के प्रबंध निदेशक को इस आदेश को संप्रेषित करेंगे संबंधित पक्षों का प्रतिनिधित्व करने वाले विद्वान स्थायी परामर्शदाता को भी अपने संबंधित विभागों संगठनों में संबंधित अधिकारियों को इस आदेश को संप्रेषित करने की आवश्यकता है उपरोक्त टिप्पणियों के साथ याचिका का निपटारा किया जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: