गोरखपुर मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ाया

गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था अभेद्य बनाई जाएगी। रविवार की देर शाम यहां तैनात पीएसी जवानों पर हमले की घटना के बाद दो दिवसीय दौरे पर गोरखपुर आए सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से कई दौर की बैठकें कीं।उन्होंने मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता बनाने के लिए कार्ययोजना तैयार करने का आदेश दिया।

 

इसके पहले सीएम ने सोमवार की शाम गोरखपुर मेडिकल कालेज में भर्ती घायल पीएसी जवानों से मुलाकात कर उनका हौसला बढ़ाया था। सीएम ने जान पर खेलकर हमलावर को गिरफ्तार करने वाले जवानों के लिए 5-5 लाख रुपए इनाम का ऐलान भी किया है। उन्होंने सोमवार को ही अधिकारियों के साथ दो दौर की उच्चस्तरीय बैठक की थी। मंगलवार को गोरखनाथ मंदिर हिन्दू सेवाश्रम में लोगों की फरियादें सुनने के बाद एक बार फिर अधिकारियों के साथ बैठक की। इस बैठक मतें उन्होंने गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था को और पुख्ता बनाने के लिए उन्होंने पुलिस के अधिकारियों को कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश दिया। बैठक में एडीजी जोन अखिल कुमार, एडीजी एसटीएफ अमिताभ यश, एडीजी एटीएस नवीन अरोड़ा, मंडलायुक्त रवि कुमार एनजी, डीआइजी जे. रवींद्र गौड़, डीएम विजय किरन आनंद, एसएसपी डा. विपिन ताडा मौजूद रहे।

 

नए सिरे से बनने लगा मंदिर की सुरक्षा का खाका

 

गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा का मैप पुलिस अफसरों ने नए सिरे से तैयार करना शुरू कर दिया है। एडीजी जोन अखिल कुमार को जिम्मेदारी मिली है दो दिन के भीतर अपनी देखरेख में पूरी कार्ययोजना तैयार कर पुलिस मुख्यालय भेज दें। एसएसपी ने इसको लेकर तैयारी शुरू कर दी है। मंगलवार को सुरक्षा मुख्यालय लखनऊ से उपकरण भी गोरखनाथ मंदिर पहुंच गया। इसकी मदद से मंदिर आने वालों की जांच होगी।

 

सुरक्षा के लिहाज से मंदिर के सभी प्रवेश द्वार को संवेदनशील माना है। सभी जगह फोर्स की संख्या बढ़ाने के साथ ही हर परिस्थिति से निपटने में दक्ष जवानों को तैनात किया जाएगा। गेट के पास मोर्चा बनेगा। ताकि अगर कोई जबरन वाहन या हथियार लेकर घुसने का प्रयास करता है तो समय रहते दबोच लिया जाए। सुरक्षा को ट्रेनिंग देने के लिए पुलिस लाइन में सेंटर खोलने की तैयारी है। जहां एटीएस, एसटीएफ के साथ ही केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के प्रशिक्षक को बुलाकर जवानों को विपरीत परिस्थिति से निपटने की ट्रेनिंग दी जाएगी। मंदिर सुरक्षा में लगे अनुपयोगी लोगों को हटाया भी जाएगा।

 

देवीपाटन शक्तिपीठ की सुरक्षा बढ़ाई गई

गोरखनाथ मंदिर में सुरक्षाकर्मियों पर हुए आतंकी हमले के बाद तुलसीपुर स्थित शक्तिपीठ देवीपाटन मंदिर की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। बिना लाइन लगाए मां पाटेश्वरी का दर्शन करना मुश्किल हो गया है। प्रवेश द्वार पर श्रद्धालुओं को व्यापक तलाशी के बाद ही मंदिर में प्रवेश दिया जा रहा है। सुरक्षा के लिए एक प्लाटून पीएसी बढ़ा दी गई है। पीछे के गेट से केवल विशिष्टजनों को मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति दी गई है। मंदिर की पांच स्तरीय सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। आपातकालीन व आतंकवादी घटनाओं से निपटने को व्यापक इंतजाम किए गए हैं।

 

गोरखनाथ मंदिर के साथ ही जिले के सभी सार्वजनिक स्थलों की सुरक्षा चाक-चौबंद है। इसे और बेहतर बनाने का प्लान जिले की पुलिस तैयार कर रही है। मंदिर में पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाने के साथ ही आने-जाने वालों की सघन चेकिंग हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: