रूस और यूक्रेन के जंग की वजह आई सामने

रूस और यूक्रेन के बीच लड़ाई अब और भड़कती जा रही है। इस जंग के पीछे अमेरिका और नाटो का सबसे बड़ा हाथ रहा है। ये यहां पर अपनी पकड़ मजबुत बनाना चाहते थे ताकि रूस को काबू में कर सके।दुनिया को जितना बताया जा रहा है बात सिर्फ उतनी ही नहीं है। नई रिपोर्टों की माने तो अमेरिका यूक्रेन में बहुत बड़ी साजिश रच रहा था। अमेरिका यहां पर रासायनिक व जैविक हथियारों को बना रहा था और जब यह बात सामने आनी शुरू हुई तो अमेरिका दुनिया को गुमराह करने के लिए रूस पर आरोप लगाना शुरू कर दिया है कि वो अब यूक्रेन पर रासायनिक व जैविक हथियारों हमले करने की तैयारी कर रहा है। अमेरिका इसे इस लिए फैला रहा है ताकि वो लोगों को भटका सके।

 

दरअसल, रूस ने अमेरिका पर यूक्रेन में जैविक हथियार बनाने के सनसनीखेज आरोप लगाया है। रूसी अधिकारियों ने कहा, अमेरिका दुनिया को यह स्पष्ट करे कि उसने हमारे पड़ोस में सैन्य जैविक हथियार कार्यक्रम क्यों चला रखा था, जिसमें एंथ्रेक्स और प्लेग जैसे रोगों के घातक रोगाणु विकसित किए जा रहे थे। विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जखारोवा ने कहा, रूस को यूक्रेन में अपने सैन्य ऑपरेशन के दौरान वहां जैविक हथियार बनाने के मजबूत सबूत मिले हैं। जखारोवा ने कहा, खुद अमेरिकी उप विदेश मंत्री विक्टोरिया नूलैंड ने रूस की बात पर मुहर लगा दी है। प्रवक्ता के मुताबिक, जैविक हथियार रूस पर खतरा बढ़ाने का जरिया है, जिसे पेंटागन वित्तीय मदद दे रहा था।

 

जखारोवा ने बताया, 24 फरवरी के बाद यूक्रेन ने प्लेग हैजा और एंथेक्स व अन्य सैंपल नष्ट कर दिए थे। पेंटागन की रक्षा खतरा न्यूनीकरण एजेंसी यूक्रेन में जैविक हथियार बनवाने में लिप्त थी। 30 प्रयोगशालाओं के लिए अमेरिका ने 20 करोड़ डॉलर (साढ़े 15 अरब रुपये) खर्च किए।

 

इस खबर के सामने आने के बाद अमेरिका भी लोगों को भटकाना शुरू कर दिया है और व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने दावा किया है कि रासायनिक व जैविक हमले की आशंका को लेकर हमारे पास चिंतित होने की अहम वजह है। संभव है रूस गलत कारण को आधार बनाकर रासायनिक हमला कर दे, वह पहले भी ऐसा करता आया है। साकी ने ट्वीट किया, ‘हमें यूक्रेन में कथित अमेरिकी जैविक हथियार लैब और रासायनिक हथियारों के विकास के बारे में रूस के झूठे दावों पर ध्यान देना चाहिए। हमने चीन के अधिकारियों को भी देखा है कि वह इस तरह के दावों का समर्थन कर रहे हैं, जो एक सुनियोजित साजिश है।

 

अमेरिका के इस बयान के बाद रूस ने कहा है कि यह सरासर गलत है और अमेरिका भड़का रहा है। रूस ने दावा किया है कि, उसने यूक्रेन में ऐसे जैविक हथियारों को खोज निकाला है जो अमेरिका के नेतृत्व में यहां रखे गए हैं। इन जैविक गथियारों का मकसद सैन्य इस्तेमाल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: