अगर आपने अभी तक कोई गुरु नहीं बनाया है तो करें इनकी पूजा

भक्ति: हर साल मनाया जाने वाला गुरु पूर्णिमा का पर्व इस साल 13 जुलाई को है। ऐसे में अगर हम हनुमानजी के बारे में बात करें तो उनका कोई शिष्य नहीं था लेकिन फिर भी वह किसी के गुरु हुए।हनुमानजी ने विभीषण को मार्ग दिखाया : कहा जाता है विभीषण श्रीराम के भक्त थे। जब हनुमानजी लंका पहली बार गए तो उन्होंने यह जाना तो उन्होंने विभीषण को मार्ग बताया और विभीषण के गुरु बनकर ही उन्होंने प्रभु श्रीराम से विभीषण को मिलाया। जी हाँ और ऐसा कहा जाता है हनुमानजी की सबसे पहली स्तुति विभीषण ने ही की थी। आपको पता हो हनुमानजी ने ही सतयुग में राजा इंद्रद्युम्न को प्रभु का मार्ग बताकर भगवान जगन्नाथ मंदिर की स्थापना कराई थी। वहीं प्राचीनकाल में वहां पर श्रीराम की ही पूजा होती थी।माधवाचार्य : कलयुग में हनुमानजी ने श्रीराम के परमभक्त माधवाचार्य को साक्षात दर्शन देकर प्रभु श्रीराम का मार्ग बताया था।तुलसीदासजी : भक्त तुलसीदासजी को गुरु बनकर हनुमानजी ने श्रीराम से मिलवाया था।समर्थ रामदास: हनुमानजी के परमभक्त और छत्रपति शिवाजी के गुरु समर्थ रामदास ने हनुमानजी का साक्षात्कार करके ही संपूर्ण देश में अखाड़ों की स्थापना की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: