प्रधान पति की चुनावी रंजिस से वंचित हो रहे प्रधान मंत्री ग्रामीण आवास लाभार्थी 

 

मिश्रित सीतापुर / विकासखंड मिश्रित की ग्राम पंचायत परसौली निवासी विशंभर पुत्र सीताराम ने आवास पटल अधिकारी को एक शिकायती पत्र देकर आरोप लगाया है । कि ग्राम पंचायत में गरीब पात्रों के आवास काटकर अपात्रों को सरकारी आवास दिए गए हैं । पीड़ित का आरोप है । कि पूर्व लाभार्थी सूची में लीलावती पत्नी विशंभर आईडी संख्या यूपी 13 / 3076 30 व राजू पुत्र अनंतराम आईडी संख्या यूपी 13 / 41880 12 , माया देवी मौर्या पत्नी रामपाल मौर्य आईडी संख्या यूपी 13 / 560 2137 , अजय कुमार पुत्र रंगीलाल आइडी संख्या 13 /4595 295 पात्र व्यक्तियों के नाम पूर्व लाभार्थी सूची में अंकित थे । परंतु प्रधान पति हरिशरण मौर्य द्वारा चुनावी रंजिश मानते हुए उक्त सभी गरीब लाभार्थियों को अपात्र घोषित कराकर प्रधानमंत्री ग्रामीण आवासों से वंचित कर दिया है । जब कि ग्राम गौवापुरवा निवासी प्रधान पति के सगे रिश्तेदार रामकिशुन मौर्य पुत्र रामदीन को आईडी संख्या यूपी 13 / 340 980 पर प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास स्वीकृत किया गया है । लेकिन उनकी पत्नी के नाम नगर पालिका परिषद मिश्रित में लग भग 3 वर्ष पूर्व प्रधानमंत्री शहरी आवास मोहल्ला रन्नुपुर में पानी की टंकी के पास निर्मित कराया जा चुका है । जिसमें वह वर्तमान समय निवास भी कर रहे हैं । पीड़ित का आरोप है । जिन गरीब लाभार्थियों को प्रधान पति द्वारा चुनावी रंजिश के चलते प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास से वंचित किया गया है । वह सभी लाभार्थी भूमिहीन , मजदूर पेसा व्यक्ति हैं । प्रधान पति अपने निजी स्वार्थ के चलते प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास अपने चहेते लोगों को ही प्रदान कर रहे हैं । उसमें पंचायत सचिव की सहमति बनी हुई है । इस लिए पीड़ित व्यक्ति ने खंडविकास अधिकारी / सहायक आवास पटल अधिकारी को मांमले का शिकायती पत्र देकर प्रधान पति व पंचायत सचिव के बिरुध्द जांच कराते हुए पात्र लाभार्थियों को प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास दिलाए जाने की मांग की हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: