शासन की मंशा को ठेंगा दिखाते लहरपुर कोतवाल लहरपुर कोतवाली की अवैध वसूली बनी चर्चा का विषय

नैमिष टुडे
अभिषेक शुक्ला

लहरपुर सीतापुर सरकार की मंशा को दरकिनार करते हुए लहरपुर कोतवाल मुकुल प्रकाश वर्मा सुबह से शाम तक अवैध वसूली में लिप्त हैं कोतवाली परिसर व क्षेत्र में न्याय व मानवीय संवेदनाओं जैसे विषय गौड़ होकर रह गए हैं। हालत यह है कि कोतवाली में आने वाले फरियादियों के साथ किंचित भी न्याय नहीं हो पा रहा है। आर्थिक बिंदु को ही आधार मानकर कोतवाली पुलिस द्वारा अपनाई जा रही कार्यशैली पूरे कोतवाली क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है और जिम्मेदार कुंभकर्णी नींद में सो रहे हैं। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के स्पष्ट आदेश हैं कि जीरो टॉलरेंस की नीति को अपना कर गुण दोष के आधार पर आम जनमानस के साथ न्याय हो, किसी भी तरह की अवैध वसूली न की जाए, और अवैध कारोबारों पर पूरी तरह से लगाम लगे, लेकिन ठीक इसके उलट लहरपुर कोतवाल मुकुल वर्मा ओवरलोडिंग के नाम पर प्रतिमाह ₹5 लाख से अधिक की अवैध वसूली करा रहे हैं। यदि यह कहा जाए कि कोतवाल मुकुल वर्मा अवैध कारोबारियों व पुलिस के दलालों से घिरे हुए हैं, तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। घटनाक्रम पर नजर डालें तो लहरपुर कोतवाली क्षेत्र लकड़ी व बालू के अवैध कारोबार से जनपद ही नहीं पूरे प्रदेश में जाना जाता है। आंकड़ों पर नजर डालें तो प्रतिदिन वैध और अवैध प्रतिबंधित प्रजाति की आधा सैकड़ा ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रालियां व एक दर्जन से अधिक ट्रक लहरपुर के शहर बाजार में स्थित दो चिन्हित लकड़ी के प्लाटों पर यह ओवरलोड वाहन लकड़ियां गिराते हैं। इन ओवरलोड वाहनों से₹700 प्रति ट्राली व ₹1000 प्रति ट्रक लहरपुर कोतवाली पुलिस द्वारा चिन्हित दो प्राइवेट व्यक्तियों जिसमें मोहल्ला बागवानी टोला निवासी आसिफ खां व बहलोल पुर निवासी श्यामबहार खान नामक दो व्यक्तियों द्वारा वसूली की जाती है। जो लकड़ी ठेकेदार पुलिस का पैसा नहीं देता, उसे उसकी ट्रॉली सहित कोतवाली लाकर सीज कर दिया जाता है। सीज करने की कार्रवाई के बाद ठेकेदारों में दहशत पैदा हो जाती है, और वसूली पुनः अनवरत रूप से जारी रहती है। कमोबेश यही स्थिति ओवरलोड बालू की ट्रैक्टर ट्रालियों में भी बनी हुई है शासन द्वारा तालगांव कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत लश्करपुर के पास नहर पर खनन विभाग द्वारा रॉयल्टी जारी की गई है, वहीं दूसरी तरफ लहरपुर कोतवाली क्षेत्र में सूरजकुंड के पास नहर पर सरकार ने रॉयल्टी जारी की है, जिसमें अंडरलोड बालू ले जाने का प्रावधान है, पर बालू माफिया और कोतवाल मुकुल वर्मा की मिलीभगत के चलते प्रतिदिन आधा सैकड़ा से अधिक ओवरलोड ट्रैक्टर ट्राली लहरपुर कोतवाली क्षेत्र के लहरपुर सीतापुर मार्ग, लहरपुर हरगांव मार्ग, लहरपुर लखीमपुर मार्ग, लहरपुर तंबौर मार्ग पर फर्राटा भरते खुलेआम देखे जा सकते हैं। इसके बदले में इन बालू माफियाओं से कोतवाल द्वारा एक मोटी रकम ली जाती है। वही प्रदेश के विभिन्न हिस्सों एवं अन्य प्रदेशों से ओवरलोड मौरंग के एक दर्जन से अधिक ट्रक सुबह 6:00 बजे ही लहरपुर कोतवाली क्षेत्र में प्रवेश कर जाते हैं, और कोतवाल मुकुल वर्मा द्वारा निर्धारित व्यक्ति इन ओवरलोड मोरंग भरे ट्रकों से₹1000 की अवैध वसूली इन ओवरलोड ट्रकों से करता है और यह अवैध वसूली व गोरखधंधा कोतवाली क्षेत्र के हर जागरूक व्यक्ति की जुबान पर है। अब प्रश्न यह उठता है कि जब शासन की मंशा पूरी तरह से पारदर्शी है, तो एक कोतवाली का कोतवाल इतने बड़े पैमाने पर अवैध वसूली कैसे कर रहा है? यह एक ऐसा प्रश्न है, जो पूरे सिस्टम को सवालों के घेरे में खड़ा कर देता है इस संबंध में जब पुलिस क्षेत्राधिकारी यादवेंद्र यादव से उनके सीयूजी नंबर पर बार-बार फोन करके उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो उनका फोन नहीं उठा इस संबंध में जब उप जिलाधिकारी अनिल कुमार से उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो उनका भी फोन नहीं उठा इससे सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि तहसील मुख्यालय पर तैनात यह जिम्मेदार अधिकारी जन समस्याओं को लेकर कितना गंभीर हैं नगर के मुख्य मार्ग से होकर जाती हुई ओवरलोड लकड़ी से भरी ट्रैक्टर ट्राली सीतापुर रोड से गुजरती है बालू से भरी ओवरलोड ट्रैक्टर ट्राली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नमस्कार,नैमिष टुडे न्यूज़पेपर में आपका स्वागत है,यहाँ आपको हमेसा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर ओर विज्ञापन के लिए संपर्क करे 9415969423 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें
%d bloggers like this: